MotherBoard क्या है? | What is Motherboard in Hindi?

आप इस Article में जानेंगे की MotherBoard क्या होता है? (What is Motherboard in Hindi), यह क्या काम करता है और इसके कितने प्रकार हैं? (Types of Motherboard in hindi). मदर बोर्ड किसी भी Computer System के सबसे जरुरी Components में से एक है. 

कंप्यूटर सिस्टम के जितने भी मुख्य भाग हैं वो सभी Motherboard में ही मौजूद रहते हैं और आपस में मिलकर कम्प्यूटर सिस्टम के सभी कामो को करते हैं. कंप्यूटर सिस्टम के मुख्य अंग जैसे की CPU (Central Processing Unit ), CMOS Battery, RAM (Random Access Memory), Graphics Cards, Video Cards, Expansion Card इत्यादि. ये सभी MotherBoard में मौजूद रहते हैं.

आज से 25 साल पहले तक Motherboard काफी साधारण थे जिसमे Memory, Processor, Hard Disk, और Floppy Drive Controller जैसे कुछ ही अंग इसमें मौजूद थे. लेकिन आज के समय में Computer क्षमता को बढ़ाने के लिए Motherboard में कई Advance Components को शामिल किया गया है.

Motherboard क्या है? (What is Motherboard in Hindi?)

Motherboard कम्प्यूटर सिस्टम का मुख्य अंग है, इसी के अंदर Computer के मुख्य Components मौजूद रहते हैं. कंप्यूटर सिस्टम के सभी अंग (Component) को काम करने के लिए किसी अलग component की जरुरत पड़ती ही है इसलिए सभी Components को Motherboard में एक ही जगह पर रखा जाता है ताकि एक दूसरे से आसानी से Connect हो सकें. 

Motherboard

Motherboard ही यह सुनिश्चित करता है की Computer System के सभी अंगो को जरुरत के हिसाब से Power supply मिलती रहे और, सभी components एक दूसरे से जब चाहें जरुरत के हिसाब से connect हो सकें और Data को आपस में शेयर कर सकें. 

Motherboard क्या काम करता है? (Work of Motherboard in HIndi)

आप यह तो समझ ही गए हो की मदर बोर्ड क्या होता है (What is Motherboard in Hindi) लेकिन आप को यह जानना भी जरुरी है की यह क्या काम करता है तो चलिए जानतें हैं इसके Function के बारे में.

Integration of Components 

मदर बोर्ड के अंदर computer सिस्टम के सभी मुख्य अंग मौजूद रहते हैं, जिससे वो सभी components आपस में आसानी से connect हो जाते हैं. इसलिए Motherboard को Component का Hub भी कहा जाता है.

Easy Integration of External Peripherals 

मदर बोर्ड एक ऐसा Platform है जिसपर बाहरी components हो आसानी से लगाया जा सकता है, जिससे यहाँ पर अन्य Devices और Interface को आसानी से Install किया जा सकता है.
Power Supply मदर बोर्ड यह सुनिश्चित करता है की इसमें मौजूद सभी Components को उनके जरुरत के हिसाब से Power Supply मिलती रहे.

Co-ordination With Devices 

इसका मुख्य काम यह है की devices के साथ ताल मेल रखना ताकि जब किसी device को अन्य के साथ connect करना हो तो इसे आसानी से connect कराया जा सके.

Boot Up 

कंप्यूटर को चालू करने के लिए मदर बोर्ड BIOS से Connection बनाता है, जिससे computer Boot Up अर्थात ON हो पाता है. इसका मतलब कम्प्यूटर को Boot Up करने के लिए मदर बोर्ड की जरुरत पड़ती है.

Motherboard के Ports (Ports of Motherboard in Hindi)

अब तक तो आप यह समझ ही गए होंगे की मदर बोर्ड क्या होता है (What is Motherboard in Hindi) और यह क्या काम करता है. तो चलिए अब इसके अलग अलग Ports के बारे में जान लेतें हैं.

कुछ Components मदर बोर्ड के अंदर होतें हैं तो कुछ को Ports के जरिये Connect किया जाता है.

Motherboard के Ports 

USB Port

USB का पूरा नाम है Universal Serial Port, इसका इस्तेमाल Keyboard, Mouse, और Hard Disk जैसे components को कम्प्यूटर से connect करने के लिए किया जाता है.

USB का इस्तेमाल करके आप Multimedia Files जैसे की Images, Videos, और Text Document को अपने कम्प्यूटर से मोबाइल में ट्रांसफर कर सकते हो, उसी तरह मोबाइल से कंप्यूटर में भी ट्रांसफर कर सकते हो.

इसका इस्तेमाल मुख्यतः पुराने कंप्यूटर Mouse और Modem को Computer से connect करने के लिए किया जाता है. 

इसके दो model होते हैं पहला model 9 pin का होता और दूसरा model 25 pin का होता है. इसमें data 115 Kilobits प्रति सेकंड की स्पीड से Transfer होता है.

Parallel Port 

इसका इस्तेमाल Printers और Scanners को कम्प्यूटर से connect करने के लिए किया जाता है. इसे Printer Port भी कहा जाता है. इसका Model 25 pin का होता है.

PS/2PORT 

इस Port का इस्तेमाल पुराने Keyboard और Mouse को कम्प्यूटर से कनेक्ट करने के लिए किया जाता है. इसे Mouse Port भी कहा जाता है लेकिन आज के समय में इसका इस्तेमाल काफी कम होता है.

VGA Port 

VGA का पूरा नाम है Video Graphics Array, इसका इस्तेमाल Monitors को Computer के video card से connect करने के लिए किया जाता है. इसमें कुल 15 Holes होतें हैं.

Power Connector 

Power Connector का इस्तेमाल Power Supply को कम्प्यूटर से Connect करने के लिए किया जाता है.

Firewire 

Firewire Port अधिक मात्रा में Data काफी तेज़ गति से Transfer करता है, इसका इस्तेमाल Camera Cords और Video Equipment को कम्प्यूटर से connect करने के लिए किया जाता है.

इसमें से Data 400 से 500 Megabits Per Second की गति से Transfer होता है. इसका निर्माण Apple कंपनी द्वारा किया गया था.

यह तीन अलग अलग प्रकार में होते हैं 4-pin Firewire Connector, 6-pin Firewire Connector, 9-pin Firewire Connector. 

Modem Port 

Modem Port का इस्तेमाल कम्प्यूटर Modem को Telephone Network से connect करने के लिए किया जाता है.

Ethernet Port (LAN Port)

Ethernet Port का इस्तेमाल High Speed नेटवर्क केबल को कम्प्यूटर के Ethernet Card से connect करने के लिए किया जाता है. 

इसमें data 4 MB/second से लेकर 1000MB/second की स्पीड से Transfer हो सकता है. जितना ज्यादा Network Bandwidth होगा उतना ही तेज़ और ज्यादा डाटा ट्रांसफर होगा. 

Game Port 

Game Port का इस्तेमाल Joystick को कम्प्यूटर से connect करने के लिए किया जाता है. लेकिन आजकल इसके स्थान पर USB Port का इस्तेमाल किया जाने लगा है.

DVI Port 

DVI का पूरा नाम है Digital Video Interface, इसका इस्तेमाल फ्लैट पैनल LCD मॉनिटर को Computer के High-end Video Graphic Card से connect करने के लिए किया जाता है.

Sockets 

Sockets का इस्तेमाल Microphone और Speaker को computer के sound card से connect करने के लिए किया जाता है.

Motherboard के प्रकार (Types of Motherboard in Hindi)

मदर बोर्ड को उनके Form Factor के आधार पर अलग अलग श्रेणियों में बांटा गया है. तो चलिए जानतें हैं Motherboard के कितने Types हैं.

Standard ATX (Advanced Technology Extended)

Standard ATX Motherboard आमतौर पर हम सभी के कम्प्यूटर में होता है, इसका आकार थोड़ा बड़ा होता है.

Micro ATX (Advanced Technology Extended)

Micro ATX मदर बोर्ड थोड़े छोटे होते हैं Standard मदर बोर्ड के मुकाबले, इसका आकार 9.6 X 9.6 inches का होता है. यह Intel और AMD दोनों प्रकार के प्रोसेसर के साथ इस्तेमाल किया जा सकता है.

Mini ITX (Information Technology Extended)

Mini ITX थोड़ा छोटा होता है इसका आकार 6.7 X 6.7 inches का होता है, यह काफी Low Power Consume करता है.

Nano ITX (Information Technology Extended)

Nano ITX Motherboard  का आकार 4.7 X 4.7 inches का होता है, यह भी Low Power consume करता है.

Pico ITX (Information Technology Extended)

Pico ITX वाले Motherboard का आकार 3.9 X 2.8 inches का होता है, यह battery की खपत काफी कम करता है. 

Motherboard के मुख्य पार्ट्स (Parts of Motherboard in Hindi)

Motherboard के मुख्य पार्ट्स

CPU Socket 

कम्प्यूटर सिस्टम का सबसे मुख्य अंग होता है CPU (Central Processing Unit) यह कंप्यूटर का दिमाग होता है. कम्प्यूटर Programme के Instruction लेना और उसे Process करके Output देना CPU का मुख्य काम होता है. Motherboard में CPU का स्थान CPU Socket में होता है.

RAM Slots 

कम्प्यूटर Programmes को CPU में जाने से पहले RAM (Random Access Memory) में Load किया जाता है. RAM Temporary स्टोरेज की तरह काम करता है. इसका स्थान Motherboard में RAM Slots में होता है.

I/O Ports 

जैसे की आपने अलग अलग Ports के बारे में जान चुके हो, इनका स्थान Motherboard के Input/Output Ports में होता है.

North-Bridge Chipset 

North Bridge Chipset काम Hard Disk, PCI, और RAM को Manage करना होता है. इसका स्थान Motherboard में Heat Sink के निचे होता है.

South-Bridge Chipset 

South Bridge Chipset का मुख्य काम होता है Input/Output device को Control करना. यह North Bridge Chipset के साथ भी Connected रहता है. South Bridge Chipset को IC Chip भी कहा जाता है.

Power Connector 

कम्प्यूटर सिस्टम को Operate करने के लिए जो बिजली की आवश्यकता पड़ती है उसे Power Connector ही Provide करता है.

Power Connector connected होता है SMPS से,  SMPS से यह Electricity लेकर Motherboard के सभी Parts तक पहुंचाता है. इसमें 20-24 पिन लगे होते हैं.

Expansion Card Slots 

इसे PCI Slot भी कहा जाता है, इसमें आप Audio Card, Video Card, Network Card, Graphics Card लगा सकते हैं. कम्प्यूटर को Upgrade करते समय इस Slot का इस्तेमाल किया जाता है.

CMOS Battery 

CMOS Battery का पूरा नाम है Complementary Metal Oxide Semiconductor. इसका काम  Date, Time, और Hardware Information को स्टोर करना होता है. 

Heat Sink 

इसका काम होता है Motherboard के अंदर Temperature को Maintain करके रखना. जब मदर बोर्ड के अंदर कोई Part ज्यादा Heat निकालता है, तब HeatSink उस Heat को सोख लेता है जिससे मदर बोर्ड का तापमान संतुलित बना रहता है.

Conclusion 

हमें आशा है की यह Article (What is Motherboard in Hindi) पढ़ने के बाद Motherboard से जुड़े आपके कई सवालों के जवाब आपको मिल गए होंगे. 

अगर आपके कोई सवाल और सुझाव हैं तो Comment में लिखकर हमें जरुर बताएं. 

Vikas Tiwari

विकास तिवारी इस ब्लॉग के मुख्य लेखक हैं. इन्होनें कम्प्यूटर साइंस से Engineering किया है और इन्हें Technology, Computer और Mobile के बारे में Knowledge शेयर करना काफी अच्छा लगता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *