Firewall क्या होता है? | What is Firewall in Hindi?

क्या आप जानतें हैं की Firewall क्या होता है (What is Firewall in Hindi) और यह कैसे काम करता है. इस Article में आप Firewall से जुडी सभी जानकारियों को जानने वाले हो. यह एक प्रकार का सुरक्षा कवच है जो  की Computer को Viruses और Hackers से सुरक्षित रखता है.

आज के समय में हर एक Computer सिस्टम में Firewall पहले से ही install किया हुआ के मिलता है. अगर किसी Computer System में यह मौजूद नहीं है तो उस सिस्टम को Viruses और Hackers से सबसे ज्यादा खतरा होता है. और अगर एक बार किसी कम्प्यूटर में कोई Virus आ जाये तो उस कम्प्यूटर का सारा Data चुराया जा सकता है. इसलिए किसी भी computer में security का होना जरुरी है.

Firewall क्या है? (What is Firewall in Hindi)

Firewall कम्प्यूटर का एक Security System है जो की Computer सिस्टम को Virus और Hackers से बचा कर रखता है. अगर कोई Hacker किसी भी Malware या Virus को किसी Network की मदद से आपके कम्प्यूटर में भेज देगा तो आपके कम्प्यूटर का control उस Hacker के हाथ में आ जाएगा. 

Hackers आपके कम्प्यूटर से Sensitive Data जैसे की Personal Detail, Bank Account Details, और Password को चुरा सकते हैं. इसीलिए इनसे बचने के लिए Firewall सिस्टम का इस्तेमाल किया जाने लगा. 

जब आप अपने कम्प्यूटर में  किसी WIFI  की मदद से Internet चलातें हैं तब आपके कम्प्यूटर में मौजूद Firewall का सिक्योरिटी सिस्टम दूसरे Network से आने वाले Data को पहले चेक करता है की कहीं इसमें कोई Virus तो नहीं है और सिर्फ सुनिश्चित करने के बाद ही यह Data को आपके कम्प्यूटर में आने देता है.

चलिए इसे एक उदाहरण से समझतें हैं, अगर आप किसी Office में जातें हैं तो आप ने देखा होगा की उस Ofiice के अंदर जाने से पहले हर एक लोगों की checking की जाती है यह सुनिश्चित करने के लिए की किसी के पास हतियार तो नहीं है जब एक बार सुनिश्चित हो जाता है तभी उस व्यक्ति को Office के अंदर जाने दिया जाता है. तो जो गार्ड हर एक व्यक्ति को चेक करता है, इसे ही कम्प्यूटर सिस्टम में Firewall कहा जाता है.

जब आप एयरपोर्ट पर जातें हैं तब आपके सभी सामानों को एक Conveyer Belt से गुजारा जाता है और फिर यह सुनिश्चित किया जाता है की कहीं आपके पास कोई अनचाही चीज़ें तो नहीं है और सुनिश्चित होने के बाद ही आपके सामान कोआप तक पहुँचाया जाता है, कुछ इसी तरह Firewall भी काम करता है.

उसी तरह जब आपके पास किसी दूसरे नेटवर्क से कोई Data आता है तब वह डाटा सबसे पहले Firewall द्वारा चेक किया जाता है और जब इसे सबकुछ सही लगता है तभी यह data को आपके कम्प्यूटर में आने देता है.

Firewall काम कैसे करता है? (How Firewall Works in Hindi)

वैसे तो जो Computer आप खरीदते हो उसमे पहले से ही Windows Operating System Firewall को Install करके रखता है. जब आप अपने कम्प्यूटर को किसी WIFI से connect करते हो इसका मतलब आप एक Network से connect हो गए हो. यह External Network और आपके Computer के मध्य में रहकर काम करता है.

जब आप अपने कम्प्यूटर से कोई Data Packets अपने wifi के जरिये किसी और Network में भेजते हैं तब उस Data packets में कई जानकारियां होती हैं जैसे की आपका Data Packet जिस server के पास जाएगा उसका IP Address और आपके कम्प्यूटर का IP Address, इत्यादि.   

जब आप गूगल पर जाकर कोई फाइल Download करते हो तब उस फाइल को डाउनलोड होने से पहले आपके कम्प्यूटर सिस्टम का Firewall उस फ़ाइल को पूरी तरह से चेक करता है. Firewall के पास ऐसे चीज़ों की लिस्ट होती है जोकि Virus और Malware से सम्बंधित होता है अगर जो फाइल आप डाउनलोड कर रहे हो उसमे एक भी Code वायरस से सम्बंधित है तो Firewall उस फाइल को download नहीं होने देता है.

वैसे तो फ़ायरवॉल Paid होता है लेकिन मार्किट में कुछ Free Firewall भी उपलब्ध है लेकिन अगर आप अपने कम्प्यूटर की अच्छी सुरक्षा चाहतें हैं तो Free Firewall का इस्तेमाल ना करें. कुछ Firewall को आप Free में तो download कर सकते हो लेकिन इनमे भी Virus की कमी नहीं रहती है.

Antivirus जैसे की Avast, McAfee, और Quick Heal ये सभी Firewall की तरह ही काम करती है और आपके कम्प्यूटर सिस्टम को Virus और Hackers से बचाती है. तो चलिए अब जान लेते हैं की फ़ायरवॉल कितने प्रकार के होतें हैं.

Firewall के प्रकार (Types of Firewall in Hindi)

यह कुल  के होते हैं Packet Filter, Stateful Packet Inspection, और Proxy Server Firewall. इन तीनों फ़ायरवॉल की अलग अलग विशेषता है इनका इस्तेमाल Network में मौजूद अनचाही डाटा को कम्प्यूटर सिस्टम में आने से रोकने के लिए किया जाता है. Hardware और Software दोनों प्रकार के Firewall होतें हैं.

जो फ़ायरवॉल आपके कम्प्यूटर में मौजूद है वह Software Firewall होता है और जिस फ़ायरवॉल को बड़ी बड़ी कम्पनीज इस्तेमाल करती है उसे Hardware फ़ायरवॉल कहा जाता है क्यूंकि वे लोग फ़ायरवॉल के इस्तेमाल के लिए एक अलग से Server का इस्तेमाल करते हैं.

1. Packet Filter Firewall

Data Packet का मतलब होता है वह Data जो की आप अपने अपने कम्प्यूटर से किसी दूसरे Network में भेजते हैं और वह Data जो किसी दूसरे Network से हमारे Network या कम्प्यूटर में आता है.

Packet Filter Firewall का काम होता है किसी भी Outgoing या Incoming डाटा Packet को उनके IP Address, Protocol, और Ports के आधार पर उन Packets को रोकना या फिर कम्प्यूटर सिस्टम में जाने देना. जब तक यह किसी Data Packets को इजाजत नहीं देगा तब तक Data Packets आपके कम्प्यूटर में नहीं आ पायेगा. 

हालाँकि इस प्रकार के फ़ायरवॉल आपके कंप्यूटर को सुरक्षा तो देतें लेकिन अगर कोई hacker किसी अन्य Technic की सहायता से आपके कम्प्यूटर में entry कर सकता है. ऐसा इसलिए हो सकता है क्यूंकि Packet Filter Firewall सिर्फ Packets ही नज़र रखता है लेकिन कुछ Hackers सिस्टम Hack करने के लिए Spoofing Attack का इस्तेमाल करतें हैं.

2. Stateful Packet Inspection

यह फ़ायरवॉल Packet Filter फ़ायरवॉल का एक बहुत ही बढियाँ Alternate है क्यूँकि यह पहले वाले से काफी Advance और Fast है, इसे Dynamic Packet Filtering भी कहा जाता है. इसका Architecture काफी Advance होता है यह End-to-End traffic Stream पर नज़र रखता है.


यह unwanted ट्रैफिक को बंद करने के लिए Advance निरीक्षण का इस्तेमाल करता है. यह OSI मॉडल के चार Layers पर काम करता है. यह फ़ायरवॉल आपके Computer System को Fast और अच्छा security प्रदान करता है.

3. Proxy Server Firewall

यह फ़ायरवॉल बाकी दोनों फ़ायरवॉल से काफी ज्यादा Fast और Advance होता है. जितनी भी बड़ी बड़ी कंपनी होती है वे सभी लोग इसी Firewall का इस्तेमाल करतें हैं. 

बड़ी कंपनियों का खुद का एक Network होता है जिसमे केवल कंपनी के ही सदस्य मौजूद रहते हैं. Proxy Server Firewall को एक अलग Server में Configure कर दिया जाता है और उसे कंपनी Network से connect कर दिया जाता है.

कमपनीज़ Hackers और Malware को रोकने के लिए उसी के साथ कोई भी Employee काम करते समय किसी भी Social Media का इस्तेमाल न कर पाएं इसलिए कंपनी Proxy server Firewall का इस्तेमाल करती है.

Firewall के फायदे (Benefits of Firewall in Hindi)

अब तक तो आप यह समझ ही गए हो की फ़ायरवॉल क्या होता है (What is Firewall in Hindi) और यह कैसे काम करता है. तो चलिए अब जानतें हैं इसके फायदे क्या क्या है.

Network Traffic की देख रेख 

आज के समय में जिस तरह Internet का इस्तेमाल अच्छे कामों के लिए हो रहा है उसी तरह आज के समय में Internet का इस्तेमाल hacking जैसे कामों को करने के लिए भी किया जा रहा है. इसलिए फ़ायरवॉल का इस्तेमाल Computer सिस्टम में किस तरह की Network Traffic connect हो रही है इसकी निगरानी के लिए किया जाता है.

Virus Attacks को रोकने के लिए 

इंटरनेट का तेज़ी से इस्तेमाल होने के कारण कई business Online shift हो रही है जिससे Hackers Virus की मदद से कम्प्यूटर सिस्टम  में जाकर कई जरुरी जानकारियां लेने की कोशिश करते हैं इसलिए इनसे बचने के लिए कम्पनीज Firewall का इस्तेमाल करती है.

Hacking से बचाने के लिए 

अगर आपके कम्प्यूटर  सिस्टम में अच्छा Firewall नहीं है तो कोई भी Hacker आपके कम्प्यूटर सिस्टम को Hack कर सकता है. इसलिए यह सुनश्चित करना जरुरी है की आपके computer में Firewall Software मौजूद है या नहीं. 

Firewall के नुक्सान (Disadvantages of Firewall in Hindi)

हालाँकि फ़ायरवॉल के फायदे तो बहुत कुछ है लेकिन इसके कुछ नुक्सान भी है, तो चलिए जानतें हैं फ़ायरवॉल के कुछ नुक्सान के बारे में.

Network Speed में कमी 

आप सभी लोग यह  तो जानते ही हो की इसके फायदे क्या क्या है, लेकिन जब यह आपके Network और DataPackets की निगरानी करता है तब आपके Network की स्पीड थोड़ी धीमी हो जाती है. लेकिन फिर भी Hackers से बचने के लिए इसका इस्तेमाल जरुरी है.

High Maintenance Cost 

बड़ी companies अपने Network को सुरक्षित रखने के लिए Proxy Server Firewall का इस्तेमाल करतीं हैं जो की काफी महँगा होता है और अगर यह एक बार बिगड़ जाता है तो इसके Maintanance भी काफी मँहगा पड़ता है.

Conclusion :-

हमें आशा है की यह लेख (What is Firewall in Hindi) पढ़ने के बाद Firewall से जुडी आपके कई सवालों के जवाब आपको मिल गए होंगे, जैसे की यह काम कैसे करता है, इसके कितने है प्रकार है, और इसका इस्तेमाल करना जरुरी क्यों है.

आप अपने विचार और सुझाव को निचे comment section में लिख कर हमें बता सकतें हैं.

Leave a Comment