कम्प्यूटर क्या है? पूरी जानकरी | What is Computer in Hindi?

कम्प्यूटर आज के युग में हम सभी के जिंदगी को आसान बनाने वाला एक इलेक्ट्रॉनिक यन्त्र है. लेकिन क्या आप जानते हैं की कम्प्यूटर क्या है? (What is Computer in Hindi) और कंप्यूटर कैसे काम करता है?, अगर नहीं तो इस ब्लॉग को शुरू से लेकर अंत तक ध्यान से पढ़ें.

आज मैं इस Blog में कम्प्यूटर की Basic Information बताने वाला हूँ. इस Article को पढ़ने के बाद आपको कम्प्यूटर की बहुत सारी जानकारियां मालुम पड़ेंगी जैसे की कम्प्यूटर क्या है (Computer Kya Hai in Hindi), कम्प्यूटर के कितने प्रकार हैं, कम्प्यूटर काम कैसे करता है, कंप्यूटर का फुल फॉर्म क्या है, कंप्यूटर का इस्तेमाल कहाँ-कहाँ किया जाता है, और कंप्यूटर का इतिहास क्या है ?

दोस्तों आप यह जानकार हैरान हो जाओगे की Computer का इस्तेमाल आज से 170 साल पहले से ही हो रहा है। लेकिन पहले के कम्प्यूटर काफी साधारण थे और इनका इस्तेमाल सिर्फ numbers को जोड़ने, घटाने के लिए किया जाता था लेकिन आज के युग के कंप्यूटर काफी एडवांस हो गए हैं. तो चलिए सबसे पहले यह जान लेते हैं की कंप्यूटर क्या है.

Table of Contents

कम्प्यूटर क्या है? (What is a computer in Hindi)

कंप्यूटर user द्वारा दिए गए निर्देशों पर काम करने वाला एक Electronic Device है, computer users से Input लेता है और उस इनपुट को Process करके user को Output देता है.

Computer Kya Hai in Hindi

चलिए इसे एक उदाहरण से समझते हैं, जब आप PC या Laptop पर गेम खेलते हैं तभी आप एक यूजर होते हैं और गेम खलते समय जब आप Mouse और Keyboard का इस्तेमाल करते हैं इसका मतलब आप Input दे रहें हैं और इसके बाद जो आपको कम्प्यूटर Screen पर दिखता है वह Output होता है। 

कम्प्यूटर में डाटा को स्टोर (Data Storage), डाटा को प्रोसेस (Data Processing) और डाटा को पुनरप्राप्त (Retrieve) करने की क्षमता होती है।

आप कम्प्यूटर का इस्तेमाल ईमेल भेजने, गेम खेलने, वेब ब्राउज करने के लिए कर सकते हैं। लैटिन के शब्द “Computare” से Computer शब्द को लिया गया है , “Computare” शब्द का अर्थ होता है गणना करना या Calculation करना.

सबसे पहले Mechanical Computer का desing Charles Babbage ने 1837 ने बनाया था इसलिए उन्हें कम्प्यूटर का जनक माना जाता है. Charles Babbage ने जिस कम्प्यूटर को बनाया था उसमे Punch Card की सहायता से Data को insert किया जाता था.

कंप्यूटर पूरी तरह से सॉफ्टवेयर (Software) और हार्डवेयर (Hardware) से मिलकर बना है, इसलिए आपको यह समझना भी जरुरी है की सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर क्या होता है. 

Software और Hardware क्या है?

आज का Modern Computer बहुत ही Advance हो गया है , जो की User द्वारा दिए गए Raw इनपुट को लेता है और Process करके Output दिखाता है.

Hardware और Software की सहायता से ही किसी भी कम्प्यूटर का निर्माण होता है. चलिए जान लेते हैं कि Hardware और Software में क्या अंतर है.

Software in Hindi 

सॉफ्टवेयर निर्देशों (Instructions), प्रक्रियाओं (Procedures) और प्रलेखन (Documentation) का एक संग्रह है जो की computer सिस्टम के विभिन्न कार्यों को करता है.

Software एक Programming Code होता है जो की Processor द्वारा execute किया जाता है. MS-Word, MS-Office, Power-point, YouTube, Chrome Browser ये सभी सॉफ्टवेयर के उदाहरण हैं. 

Hardware in Hindi 

हार्डवेयर computer का एक Physical Component होता है जिसे हम Touch कर सकते हैं. Hardware का इस्तेमाल करके ही किसी भी कम्प्यूटर का निर्माण किया जाता है. Mouse, Keyboard, Monitor, Screen, Printer, Memory Device, Battery, Transistor ये सभी कम्प्यूटर Hardware के उदाहरण हैं.

कम्प्यूटर के प्रकार (Different Types of Computer in Hindi)

एक आम व्यक्ति जब कम्प्यूटर शब्द सुनता है तब उसके दिमाग में मॉनिटर, कीबोर्ड, और माउस का ख्याल सबसे पहले आता है. लेकिन कम्प्यूटर कई प्रकार के होते हैं और हम उनका इस्तेमाल भी अपनी रोज़ की जिंदगी में भी करते हैं.

आप जिस Earphone से गाने सुनते है वह भी एक Mini Computer है इसी तरह आप जिस ATM मशीन से पैसे निकालते हैं वह भी एक कम्प्यूटर है क्योंकि ये सभी में Hardware और Software होतें हैं इसलिए ये सभी कम्प्यूटर की श्रेणी में आते हैं.

Desktop Computer 

Desktop Computer

डेस्कटॉप कम्प्यूटर को तो आमतौर पर आप सभी लोग जानते ही हो, यह कम्प्यूटर Desk पर रख कर इस्तेमाल होता है इसलिए इसे डेस्कटॉप कम्प्यूटर कहा जाता है.

ये कीबोर्ड, माउस, मॉनिटर और स्पीकर जैसे अन्य हार्डवेयर से मिलाकर बने होतें हैं. इस कम्प्यूटर का इस्तेमाल मुख्य रूप से ऑफीस और घर पर ही किया जाता है, लेकिन ये पोर्टेबल नहीं होते अर्थात एक जगह से दूसरे जगह ले जाना काफी मुश्किल होता है.

Laptop Computer 

Laptop Computers

लैपटॉप कम्प्यूटर को भी आप सभी अच्छी तरह से जानते हैं, लैपटॉप कम्प्यूटर में भी Keyboard, Mouse, Screen और Processor होता है लेकिन इन सभी हार्डवेयर को इसमें एक करके Integrate कर दिया जाता है. लैपटॉप कम्प्यूटर Battery की सहायता है.

इसकी सबसे ख़ास बात यह है की यह Portable होता है अर्थात इसे एक जगह से दूसरे जगह ले जाया जा सकता है.

Tablet Computer 

Tablet Computer

टैबलेट भी एक कम्प्यूटर है जो की लैपटॉप से भी अच्छा Portable है,इसे हम अपने पॉकेट में भी रख कर कहीं भी ले जा सकते हैं. टैबलेट में Keyboard और Mouse नहीं होते हैं. टैबलेट के स्क्रीन टच से ही सारा काम किया जाता है. I-Pad टैबलेट कम्प्यूटर का उदाहरण है.

Server Computer

Server Computer

सर्वर भी एक कम्प्यूटर होता है, जिसका मुख्य काम Network पर Information का आदान-प्रदान करना होता है. जब भी आप गूगल पर कुछ भी सर्च करते हैं तब वे सारे information गूगल के सर्वर पर ही Store होतें हैं और वही से सारी इनफार्मेशन हमारे पास तक आती है.

अन्य प्रकार के कम्प्यूटर्स (Other Types of Computers)

जैसा की आपने अलग अलग प्रकार के कम्प्यूटर के बारे में देखा (What is Computer in Hindi), तो चलिए अब जानते हैं की और कितने प्रकार के कम्प्यूटर मौजूद हैं जिनका इस्तेमाल आप प्रतिदिन करते होंगे।

स्मार्टफोन (Smartphone)

स्मार्टफोन इसका इस्तेमाल तो आप हर दिन करते हो, यह भी एक प्रकार का कम्प्यूटर ही है क्योंकि यह भी Software और Hardware से ही बनता है. स्मार्टफोन की Screen, Battery, Memory Card ये सभी हार्डवेयर है और स्मार्टफोन में मौजूद Apps तथा Operating System ये सभी स्मार्टफोन के सॉफ्टवेयर हैं.

गेम कंसोल (Game Control)

गेम कंसोल का इस्तेमाल TV पर गेम खेलने के लिए किया जाता है, इसमें भी हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर हैं इसलिए यह भी एक प्रकार का कंप्यूटर होता है.

पहनने योग्य (Wearable)

ऐसे इलेक्ट्रॉनिक उपकरण जिनको हम अपने हाथों में पहन सकते हैं उसे Wearable कहा जाता है, जैसे की स्मार्ट वाच, फिटनेस ट्रैकर ये सभी Wearables एक प्रकार के कम्प्यूटर्स ही हैं, क्योंकि इनका भी निर्माण हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर से ही होता है.

टीवी (Television)

टीवी भी एक प्रकार का कम्प्यूटर है क्योंकि यह भी सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर से मिलकर बना हुआ है, आज के  समय में तो हम टीवी पर किसी भी चैनल को लाइव स्ट्रीम भी कर सकतें हैं.

कंप्यूटर का फुल फॉर्म क्या है? (What is Full Form of Computer)

क्या आप COMPUTER का फुल फॉर्म जानते है अगर नहीं जानते तो आज आप जान जायेंगे (Full Form of Computer)  C – Commonly, O – Operated, M – Machine, P – Particularly, U – Used for, T – Technical and, E – Educational, R – Research   

COMPUTER – आम मशीन जो शिक्षा और प्रौद्योगिकी जैसे कामो के लिए इस्तेमाल किया जाता है.

कम्प्यूटर के कुछ मुख्य अंग (Computer Parts in Hindi)

क्या आपने कभी कम्प्यूटर के मुख्य पार्ट्स (Computer Parts in Hindi) के बारे में जानते है अगर नहीं तो आज आप इसके बहुत सारे पार्ट्स के बारे में जान जाओगे। अगर आप के पास कोई पुराना PC है तो आप उसके पार्ट्स को खोल कर भी चेक कर सकतें हैं.

Computer Parts

Motherboard 

Motherboard कम्प्यूटर का circuit board होता जो की दिखने में एक पतली प्लेट जैसा दीखता है, इसपर computer के सभी पार्ट्स मौजूद होते और आपस में जुड़े हुए होते हैं.

CPU (Central Processing Unit), Hard Drive, Memory, Transistors, Audio और Video को control करने  Expansion Card जैसी कम्प्यूटर के मुख्य पार्ट्स Motherboard पर रखी होती है.

Ports के भी सारे Connections इसी Motherboard पर मौजूद होते हैं.

CPU (Central Processing Unit)

CPU क्या होता है? क्या आप जानते है अगर नहीं तो यहाँ पर इस सवाल का जवाब जान जाओगे. CPU को कम्प्यूटर का दिमाग भी कहा जाता आपके कम्प्यूटर  में जितने भी काम होते हैं वे सारे काम को CPU process करता है.

आप के कम्प्यूटर चल रहे सभी Processing काम यहीं पर हो रहा होता है, जैसे की जब आप Youtube App पर क्लिक करतें है तो आप CPU को आप एक इनपुट दे रहें होते है. CPU आप द्वारा दिए गए इनपुट से यह समझ जाता है की आपको Youtube खोलना है और Youtube खुल जाता है, इसी तरह के अन्य काम भी Centra Processing Unit ही करता है. 

RAM (Random Access Memory)

RAM का फुल फॉर्म होता है Random Access Memory होता है, RAM एक short Term Storage की तरह काम करता है. अर्थात जब तक कम्प्यूटर ON रहेगा तभी तक कोई भी डाटा इसमें मौजूद रहेगा लेकिन जैसे ही कम्प्यूटर OFF हो जाएगा वैसे ही RAM की मेमोरी पूरी तरह खाली हो जाती है.

जिस भी कम्प्यूटर RAM जितना अधिक वह उतना ही Speed से चलेगा, जब आप यह Article पढ़ रहे हो इसका मतलब आपका कम्प्यूटर ON है. और आपके COMPUTER के RAM में यह Website मौजूद है लेकिन जैसे ही आप इस website को आप बंद कर देंगे वैसे ही यह वेबसाइट आपके कम्प्यूटर के RAM से हैट जाएगा। 

Expansion Card 

मुख्यतः सभी कम्प्यूटर्स में Expansion Slots मौजूद होते हैं जिनका इस्तेमाल Expansion Card को भविष्य में ऐड करने के लिए किया जाता है. 

Expansion Card को PCI (Peripheral Component Interconnect) भी कहा जाता है. Bluetooth Card, Video Card, Sound Card, और Netwrok Card इन सभी को ही PCI कहा जाता है.

Hard Drive 

हार्ड ड्राइव कंप्यूटर का मुख्य Storage उपकरण है Files, Software और सभी Documents हार्ड ड्राइव में ही मौजूद होता है. हार्ड ड्राइव में जो भी डाटा स्टोर रहता है वह permanently store रहता है.

Power Supply Unit 

यह यूनिट main power supply यूनिट से पावर लेकर अन्य components तक उनके जरुरत के हिसाब से ही power supply करता है.

कंप्यूटर का इतिहास (History of Computer in Hindi)

आज से करीब 200 साल पहले कंप्यूटर का आविष्कार हुआ था उस वक्त कम्प्यूटर का आविष्कार Entertainment और Email भेजने के लिए नहीं किया गया था बल्कि गणना करने के लिया किया गया था. 

कंप्यूटर के इतिहास (History of Computer in Hindi) को हम उनके Computer Generations के हिसाब से देखेंगे कुल मिलाकर अभी तक कम्प्यूटर के पांच generation या पीढ़ियां मौजूद है.

“Vaccum Tubes” कम्प्यूटर की पहली पीढ़ी 1940 – 1956 (1st Generation of Computer)

वैक्यूम tubes एक कम्प्यूटर है (What is Computer in Hindi) जो की vaccum tubes का इस्तेमाल सर्किट की तरह किया करता था, इसका आकार काफी बड़ा हुआ करता था. 

इसे कोई भी गणना करने के लिए काफी ज्यादा ऊर्जा की जरुरत पड़ती थी, उसी के साथ ही यह काफी ज्यादा हीट यानी की गर्मी का निर्माण करता था.

इस कंप्यूटर के अंदर इनपुट्स को पंच कार्ड्स के जरिये दिया जाता था, इन्हे चलाने के लिए Machine Language का इस्तेमाल किया जाता था. UNIVAC और ENIAC वैक्यूम tube कंप्यूटर्स के उदाहरण है.

“Transistors” कम्प्यूटर की दूसरी पीढ़ी 1956 – 1963 (2nd Generation of Computer)

ट्रांसिस्टर्स कम्प्यूटर्स की दूसरी पीढ़ी है, vaccumeTubes वाले कम्प्यूटर्स में कुछ खामिया थी उन्ही सारी खामियों को दूर करके Transistor कम्प्यूटर्स का निर्माण किया गया था.

इस दूसरी पीढ़ी वाले कम्प्यूटर में से VaccumeTubes को हटा दिया गया था, TransistorComputer काफी तेज़, सस्ते, और हलके भी थे. इसमें “Assembly” language का इस्तेमाल होता था.

Programmers कुछ निर्देशों को language के जरिये कम्प्यूटर्स को देते थे और उन्ही निर्देशों के हिसाब से कम्प्यूटर्स काम भी करतें थे. Transistor कम्प्यूटर्स पहले ऐसे मशीन थे जो की अपने Memory में कुछ स्टोर कर सकतें थे.

“Integrated Circuit” कम्प्यूटर की तीसरी पीढ़ी 1963 – 1971 (3rd Generation of Computer)

इस वक्त तक Transistors को और भी छोटा करके Silicon Chips के ऊपर रख दिया गया था जिससे कम्प्यूटर की तीसरी पीढ़ी का निर्माण हुआ था जिसे Integrated Circuit कहा जाता है. इस वजह से कम्प्यूटर्स की Speed और काम करने की क्षमता और भी बढ़ गयी थी.

सबसे पहले इसी कंप्यूटर के साथ Keyboard और Mouse को Integrate किया गया था मतलब जोड़ा गया था उसी के साथ ही इसी कंप्यूटर में सबसे पहले Operating System का भी इस्तेमाल किया गया था.

“Microprocessors” कम्प्यूटर की चौथी पीढ़ी 1972 – 2010 (4th Generation of Computer)

Microprocessors का सबसे पहले निर्माण Intel ने 1972 में किया थे जिससे नए कम्प्यूटर पीढ़ी का निर्माण हुआ इंटेल द्वारा बनाये गए माइक्रोप्रोसेसर को कम्प्यूटर के अलग अलग पार्ट्स के साथ जोड़ दिया गया था जैसे की CPU, Memory, Input/Output Controls इन सभी को एक सिंगल चिप पर जोड़ दिया गया था.

IBM ने 1981 में सबसे पहले ऐसे कम्प्यूटर का निर्माण किया जिसका इस्तेमाल आम लोग भी कर सकतें थे और 1984 में Apple कंपनी ने अपने पहले कम्प्यूटर Macintosh (Mac) का निर्माण किया, पहले जिन circuit का आकार एक घर जितना बड़ा था आज वही सर्किट हमारे हथेली पर भी फिट हो सकता है.

“Artificial Intelligence” कम्प्यूटर की पांचवी पीढ़ी 2010 – present  (5th Generation of Computer) :

आज के वर्तमान समय में आपने Artificial Intelligence का नाम तो सुना ही होगा यह कम्प्यूटर्स की दुनिया की सबसे अत्याधुनिक आविष्कार है जो की अभी भी और भविष्य में भी इसका अत्याधुनिकरण (Advancement) होता रहेगा।

AI का इस्तेमाल करके कम्प्यूटर्स किसी भी काम को खुद से भी कर सकतें है जैसे की Speech Recognition, Self Driving Cars, Data Computing और इत्यादि।

AI के इस तकनीक में Parallel Processing और Superconductors का इस्तेमाल होता है, Quantum Computing जैसे तकनीक AI का सबसे अच्छा उदहारण है. 

कम्प्यूटर का अविष्कार किसने किया (Computer Ka Avishkar Kisne Kiya)

क्या आप जानतें है की आज के समय में इस्तेमाल होने वाले Computer का आविष्कार सबसे पहले किसने किया था? वैसे तो आधुनिक कम्प्यूटर में बहुत से वैज्ञानिकों ने अपना योगदान दिया है लेकिन इन सभी में से “Charles Babbage” पहले ऐसे वैज्ञानिक थे जिन्होंने कम्प्यूटर का आविष्कार किया था.

Charles Babbage को ही कम्प्यूटर का जनक भी माना जाता है, सन 1837 इन्होनें Analytical Engine का निर्माण किया था यह इंजन ALU, Basic Control Flow, और Integrated Circuit के आधार पर काम करता था.

आज के आधुनिक कम्प्यूटर्स भी ALU, Basic Control Flow, और Integrated Circuit के आधार पर ही काम करतें हैं इसिलए Charles Babbage को आधुनिक कम्प्यूटर्स का जनक माना जाता है.

कम्प्यूटर कैसे काम करता है? (How Computers Works in Hindi)

कम्प्यूटर के काम करने के मुख्य तीन steps होते हैं सबसे पहले यह Input लेता है फिर उस Input को वह Process करता है और बाद में Output देता है.

Input :- जब भी आप अपने कम्प्यूटर या फिर लैपटॉप में Keyboard या फिर Mouse का इस्तेमाल करतें इसका मतलब आप अपने कम्प्यूटर को Input दे रहे हो, जैसे की जब आप notepad को ओपन करके उसमे अपने Keyboard से आप A टाइप करतें हैं इसका मतलब आपने इनपुट दिया है.

Processing :- आप द्वारा इनपुट देने के बाद कंप्यूटर प्रोसेसर की सहायता से इनपुट को Process करता है मतलब वह यह सुनश्चित करता है की आप क्या टाइप कर रहे हो.

Output :- जब कंप्यूटर आपके द्वारा दिए गए इनपुट को प्रोसेस कर लेता है तब वह आपके कंप्यूटर स्क्रीन पर आउटपुट दिखाता है.

कम्प्यूटर्स का इस्तेमाल कहाँ होता है? (Application of Computers in Hindi)

आज के समय में हमारे जिंदगी को कम्प्यूटर्स ने काफी आसान बना दिया है चाहे घर बैठे लाइव स्ट्रीम करके स्पोर्ट्स देखना हो या फिर ऑनलाइन बिल पाय करना हो, तो चलिए अब जानतें हैं की कम्प्यूटर्स का इस्तेमाल किन क्षेत्रों में हो रहा है.

घर (Home) 

कम्प्यूटर्स का इस्तेमाल तो हम अपने रोज़ की ज़िन्दगी में बहुत ही ज्यादा कर रहें है जैसे की घर पर बैठ कर ही हम कम्प्यूटर्स में कोई भी टीवी चैनल्स देख सकते है, लाइव क्रिकेट मैच देखा सकतें है, बिजली का बिल भी घर बैठे इसकी सहायता से कर सकतें है.

मेडिकल क्षेत्र (Medical Field)

अस्पतालों में आज के समय में कम्प्यूटर्स का इस्तेमाल काफी ज्यादा बढ़ गया है पेशेंट्स के डेटाबेस को स्टोर करने के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता जाता है, उसी तरह आज के Advanced तकनीक Virtual Reality का इस्तेमाल ट्रैनिग के लिए किया जाता है.

surgeons भी रोबोट्स का इस्तेमाल करके सर्जरी करतें हैं आने वाले समय में कम्प्यूटर्स का इस्तेमाल मेडिकल क्षेत्र में काफी बढ़ जाएगा.

मनोरंजन (Entertainment)

अगर आज के समय में देखा जाए तो कम्प्यूटर्स का सबसे ज्यादा इस्तेमाल मनोरंजन के लिए ही हो रहा है चाहे घर बैठे टीवी शोज देखना हो या फिर कम्प्यूटर्स पर गेम खेलना हो कम्प्यूटर्स का इस्तेमाल मनोरंजन क्षेत्र माँ काफी ज्यादा हो रहा है.

उद्योग (Industry)

उद्योग क्षेत्र में भी कम्प्यूटर्स का इस्तेमाल हो रहा है, इन्वेंटरी मैनेज करने के लिए, प्रोडक्ट्स डिज़ाइन करने के लिए, इंटीरियर डिजाइनिंग, वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग, ऑनलाइन मार्केटिंग, स्टॉक मार्किट और इत्यादि के लिए उद्योग क्षेत्र में कम्प्यूटर्स का इस्तेमाल हो रहा है.

शिक्षा (Education)

शिक्षा के क्षेत्र में भी कम्प्यूटर्स का इस्तेमाल काफी ज्यादा हो रहा है, ऑनलाइन क्लास, ऑनलाइन टुटोरिल, वीडियो टुटोरिअल, Online Exam जैसे विभिन्न कामो के लिए शिक्षा के क्षेत्र में कम्प्यूटर्स का इस्तेमाल काफी ज्यादा बढ़ गया है.

गवरमेंट (Goverment)

गोवेर्मेंट क्षेत्र में भी कम्प्यूटर्स का इस्तेमाल काफी ज्यादा हो रहा है, देश के लोगों का डाटा स्टोर करने के लिए, मिसाइल निर्माण, satellite निर्माण, रॉकेट निर्माण जैसे अन्य कामों के लिए सरकार कम्प्यूटर्स का इस्तेमाल काफी ज्यादा कर रही है.

बैंक (Banking)

कस्टमर के डाटा को स्टोर करने के लिए और transactions के लिए बैंकिंग सेक्टर कम्प्यूटर्स का इस्तेमाल कर रही है. जब आप ATM से कॅश निकालतें है तब भी कम्प्यूटर की सहायता से ही transaction पूरा किया जाता है.

प्रशिक्षण (Training)

आज के समय में बहुत सारी कम्पनियाँ अपने Employees को ऑनलाइन training दे रहे है. इससे कम्पनीज के पैसे और समय दोनों ही बचतें हैं जैसे की कम्पनीज वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग का इस्तेमाल करके अपने समय भी बचाते हैं और ट्रेनिंग भी देतें है.

विज्ञान और अभियांत्रिकी (Science and Engineering)

Science और Engineering के क्षेत्र में Research and Development के लिए कम्प्यूटर्स का काफी योगदान है Computers की सहायता से नए images को बनाया जाता है, भूकंप को समझने के लिए वैज्ञानिक Comuters का ही इस्तेमाल करतें है.

सेना (Defence)

देश की सुरक्षा केलिए सेना में भी Computers का इस्तेमाल किया जाता है, Satellite से पडोसी देश पर नजर रखने के लिए, Drone की सहायता से अपनी सुरक्षा करना जैसे अन्य कामों के लिए डेस्क की सेना Computers का इस्तेमाल करती है.

Conclusion :

हमें आशा है की यह लेख (What is Computer in Hindi) पढ़ने के बाद कंप्यूटर से सम्बंधित सभी सवालों के जवाब आपको मिल गए होंगे जैसे की Computer क्या है (Computer Kya Hai in Hindi), कम्प्यूटर का इतिहास, कम्प्यूटर के प्रकार, कंप्यूटर कैसे काम करता है, कम्प्यूटर का आविष्कार किसने किया?

अगर आपके कुछ सुझाव हैं तो आप अपने सुझाव कमेंट में लिख कर हम तक पंहुचा सकतें हैं और अगर आपको यह लेख पसंद आया हो तो इस Article को आप Share जरूर करें।

Vikas Tiwari

विकास तिवारी इस ब्लॉग के मुख्य लेखक हैं. इन्होनें कम्प्यूटर साइंस से Engineering किया है और इन्हें Technology, Computer और Mobile के बारे में Knowledge शेयर करना काफी अच्छा लगता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *