शेयर मार्किट कैसे सीखे? 100% [2021] | Share Market kaise Sikhe in Hindi?

दोस्तों क्या आप शेयर मार्किट कैसे सीखे? इस सवाल का जवाब जानना चाहते हैं अगर हाँ तो आप बिलकुल सही जगह पर आये हैं क्यूंकि इस पोस्ट में मैं आपको शेयर मार्किट की कई सारी जानकारियां देने वाला हूँ जैसे की शेयर क्या होता है?, इसमें कैसे इन्वेस्ट करें और शेयर Stock कितने प्रकार के होते हैं? – Share Market kaise Sikhe in Hindi.

शेयर मार्किट कैसे सीखे? – Share Market kaise Sikhe in Hindi?

शेयर का क्या मतलब है?

जब आप किसी कंपनी में इन्वेस्ट करते हैं तो आप उस कंपनी के कुछ शेयर खरीदते हैं, शेयर का अर्थ है “हिस्सेदारी“. कंपनी के शेयर खरीदने के लिए आप एक्सचेंज का इस्तेमाल करते हैं जैसे की NSE और BSE. शेयर मार्किट में किसी भी तरीके का फ्रॉड रोकने के की जिम्मेदारी SEBI की होती है.

 Share Market kaise Sikhe in Hindi?

शेयर बाजार की मूल बातें – Basic of Share Market in Hindi

क्या आपने कभी सोचा है कि शेयर और शेयर बाजार क्या होते हैं? आइए इस part में शेयर बाजार की मूल बातें जानें. हम सभी का यह सपना होता है की हमारे पास पैसा और समय दोनों हो जिससे हम जिंदगी का आनंद उठा सकें लेकिन आज के भाग दौड़ भरी जिंदगी में यह काफी मुश्किल लगता है.

लेकिन अगर आप आने वाले 10-20 सालों में अमीर बनना चाहते हैं तो आपके लिए शेयर मार्किट एक अच्छा जरिया है, शेयर मार्किट में आपको पैसे इन्वेस्ट करने होते हैं और इसके लिए आपको शेयर मार्किट का सम्पूर्ण ज्ञान होना काफी जरुरी  है.

आप अपनी जरूरत के हिसाब से शेयर बाजार में शॉर्ट टर्म या लॉन्ग टर्म के लिए निवेश कर सकते हैं. अपनी जोखिम लेने की क्षमता, उम्र और निर्भरता के आधार पर आप शेयर बाजार में व्यापारी या निवेशक हो सकते हैं. चूंकि बाजार हमेशा जोखिम से जुड़े होते हैं, इसलिए आपको इस पोस्ट को ध्यान से पढ़ना होगा. आज भारतीय शेयर बाजार में निवेश के विभिन्न विकल्प इक्विटी, म्यूचुअल फंड, SIP, IPO, बॉन्ड, डिबेंचर, डेरिवेटिव, कमोडिटी, आदि हैं.

शेयर बाजार में निवेश कैसे करें? – Share Market Me Nivesh Kaise Kare

डीमैट और ट्रेडिंग खाते खोलें:

तो शेयर बाजार में निवेश करने के लिए आपको क्या करना होगा? सबसे पहले, एक ब्रोकर के साथ ऑनलाइन डीमैट और ट्रेडिंग खाता खोलें और उसके साथ अपने बैंक खाते को लिंक करें. डीमैट खाता खोलना एक बहुत ही सरल और आसान प्रक्रिया है. एक बार आपके पास अपना डीमैट और ट्रेडिंग खाता होने के बाद, आप भारतीय शेयर बाजार में निवेश करना शुरू कर सकते हैं. 

शेयर मार्किट में इन्वेस्ट करने के लिए आपको स्टॉक एक्सचेंजों और उनके कार्यों से परिचित होना आवश्यक है. स्टॉक एक्सचेंज वह जगह है जहां शेयरों की खरीद और बिक्री होती है. स्टॉक एक्सचेंजों को SEBI (Securities and Exchange Board of India) द्वारा नियंत्रित किया जाता है. भारत के 2 महत्वपूर्ण स्टॉक एक्सचेंज NSE (नेशनल स्टॉक एक्सचेंज) और BSE (बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज) हैं.

अपने लक्ष्यों के अनुसार, निवेश के लिए विशेष वित्तीय asset चुनें. यदि आप नियमित आय और पैसे के संरक्षण के बारे में अधिक चिंतित हैं, तो आप बांड जैसे ऋण साधनों का विकल्प चुन सकते हैं. यदि आप अच्छा खासा return चाहते हैं और जोखिम लेने को तैयार हैं, तो इक्विटी आपके लिए एक अच्छा ऑप्शन है. किसी शेयर में निवेश करने से पहले, कंपनी, उसकी वित्तीय स्थिति, विकास की भविष्य की संभावनाओं आदि का पूरा अध्ययन करें.  

  • अपने जीवन के लक्ष्यों को निश्चित करें
  • वित्तीय एसेट के बारे में जानें
  • अपनी जरूरत के अनुसार संबंधित संपत्ति या शेयर चुनें
  • नियमित रूप से निवेश करना शुरू करें
  • अपने लक्ष्यों को पूरा करें

आशा है कि आपको शेयर बाजार का एक मूल विचार मिल गया होगा और इसलिए अब विभिन्न वित्तीय साधनों को समझने का समय आ गया है.

शेयर बाजार में निवेश करने के लिए स्टॉक के प्रकार

जब आप कोई शेयर खरीदते हैं, तो आप ownership के आधार पर एक सामान्य शेयरधारक हो सकते हैं.

बाजार पूंजीकरण (market capitalization) के आधार पर आप लार्जकैप, मिडकैप और स्मॉलकैप शेयरों में निवेश कर सकते हैं. बाजार पूंजीकरण (market capitalization)  = शेयर की कीमत * बकाया शेयर की संख्या 

बकाया शेयर वे शेयर होते हैं जिन्हें सार्वजनिक बाजारों में खरीदा और बेचा जा सकता है. चलिए इसे एक उदाहरण के साथ समझते हैं. मान लीजिए कि एक कंपनी A के पास 100 बकाया शेयर हैं और शेयर की कीमत रु 20 है, तो कंपनी का बाजार पूंजीकरण 20*100 = रु 2000 होगा. 

लार्ज कैप स्टॉक (Large Cap Stock):

ये कंपनियां अच्छी तरह से स्थापित हैं और बाजार में उनकी मजबूत उपस्थिति है. TCS, इंफोसिस और Wipro जैसी कंपनियां इस श्रेणी में आती हैं. इन कंपनियों में निवेश करना कम जोखिम भरा होता है.

मिड कैप स्टॉक्स (Mid Cap Stocks):

इन कंपनियों में बड़ी वृद्धि करने की क्षमता होती है और ये लार्ज कैप कंपनियों की तुलना में अपेक्षाकृत जोखिम भरी होती हैं.

स्मॉल कैप स्टॉक्स (Small Caps Stocks):

स्टार्ट अप इस श्रेणी के अंतर्गत आते हैं और उपरोक्त दोनों की तुलना में अत्यधिक जोखिम भरे होते हैं. हालाँकि, वे रातोंरात एक सफल कंपनी भी बन सकते हैं.

अगला आवश्यक पहलू जो आपको पता होना चाहिए वह है IPO (आरंभिक सार्वजनिक पेशकश) एक कंपनी IPO के जरिए जनता से पैसा जुटाती है. यह अपने शेयरों को बेचता है ताकि इसके भविष्य के विकास के लिए पूंजी लाया जा सके. जब आप कंपाउंडिंग की शक्ति के कारण किसी शेयर में निवेश करते हैं तो आपके पैसे अधिक होते है. सरल शब्दों में, आज आपके द्वारा धारित शेयर की कीमत रु. 100, यदि आप लंबे समय तक शेयर रखते हैं तो यह दोगुना या तिगुना हो सकता है.

शेयर बाजार में कारोबार करने वाले प्रमुख आर्थिक साधन

शेयर बाजार में कारोबार करने वाले प्रमुख आर्थिक साधन

शेयर/इक्विटी (Share Equity):

इक्विटी या स्टॉक या शेयर आपको किसी कंपनी का स्वामित्व (ownership) देते हैं. आप ब्रोकर के माध्यम से शेयर खरीद या बेच सकते हैं.

म्यूचुअल फंड्स (Mutual Funds):

यहां, कई निवेशकों से पैसा जमा किया जाता है और फिर विभिन्न वित्तीय साधनों में निवेश किया जाता है. निवेशकों को यूनिट होल्डर कहा जाता है. उत्पन्न लाभ को इकाई धारकों को उनके द्वारा धारित इकाइयों के अनुपात में बाँट दिया जाता है.

बांड (Bond):

ये निश्चित आय के साधन हैं जिन्हें डेट इंस्ट्रूमेंट्स के रूप में भी जाना जाता है, जिसके द्वारा सरकार या कंपनी एक विशिष्ट कार्यकाल के लिए सहमत ब्याज दर पर निवेशकों से पैसा उधार लेती है. शेयरों की तुलना में ये कम जोखिम वाले होते हैं.

संजात (Derivatives):

एक व्युत्पन्न एक वित्तीय contract है जिसका मूल्य एक बुनियादी संपत्ति से प्राप्त होता है. इसका उपयोग कई जोखिमों को कम करने के लिए किया जा सकता है. डेरिवेटिव में फॉरवर्ड, फ्यूचर्स, ऑप्शंस और स्वैप शामिल हैं.

शेयर मार्केट टिप्स – Share Market Tips in Hindi

  • निवेश करने से पहले अपना खुद का शोध करना हमेशा बेहतर होता है.
  • अफवाहों के आधार पर निर्णय लेना बुद्धिमानी नहीं है.
  • अपने निवेश की नियमित रूप से निगरानी करें ताकि आपके घाटे में चल रहे शेयरों को खत्म कर सकें।
  • किसी भी निवेशक के लिए धैर्य बहुत जरूरी है.
  • निवेश का कदम उठाने से पहले शोध विशेषज्ञों की भी मदद लें.
  • शेयर बाजार की खबरों से हमेशा अपडेट रहें – Share Market kaise Sikhe in Hindi.

यह भी पढ़ें:

Mutual Fund के 7 फायदे

Mutual Fund के प्रकार

Mutual Fund के नुक्सान

इस पोस्ट को पूरा पढ़ने के बाद आप यह समझ ही गए होंगे की शेयर क्या होता है, इसमें आप कैसे इन्वेस्ट कर सकते हैं और Share Stock कितने प्रकार के शेयर होते हैं?

Vikas Tiwari

विकास तिवारी इस ब्लॉग के मुख्य लेखक हैं. इन्होनें कम्प्यूटर साइंस से Engineering किया है और इन्हें Technology, Computer और Mobile के बारे में Knowledge शेयर करना काफी अच्छा लगता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *