इंटरनेट की खोज किसने की थी? | Internet Ki Khoj Kisne Ki Thi?

आज दुनिया में करीब 350 करोड़ Internet Users मौजूद है और इनकी संख्या काफी तेज़ी से बढ़ भी रही है, लेकिन शायद कई इंटरनेट इस्तेमाल करने वालों को यह नहीं मालूम है की Internet का अविष्कार किसने किया है. इस लेख में आप या जान जाओगे की इंटरनेट की खोज किसने की थी? (Internet Ki Khoj Kisne Ki Thi)

इंटरनेट को किसी एक अकेले इंसान ने नहीं बनाया था बल्कि इसको बनाने के लिए कई वैज्ञानिक, इंजीनियर, और Programmers का योगदान था. हालाँकि इंटरनेट जैसे conecept का ख्याल आज से 100 साल पहले कई वैज्ञानिकों को आया था, लेकिन उस समय किसी ने भी ऐसा सिस्टम नहीं बना पाया था Internet Ka Avishkar Kisne Kiya.

Internet का विचार  

1950 के दशक में रूस और अमेरिका के बीच शीत युद्ध चालू था इसलिए अमेरिका को यह डर था की, उनके सेना की मुख्य जानकारी रूस चुरा ना ले इसलिए अमेरिका की सेना ने सोचा की क्यों न हम अपने Information को शेयर करने के लिए Computers को एक Network के जरिए आपस में कनेक्ट कर दें.

सन 7 फरवरी 1958 को अमेरिका के Defence Secretary ने एक टीम का गठन किया जिसका नाम रखा गया ARPA (Advanced Research Projects Agency) इसका मुख्य काम था ऐसी Technology का निर्माण करना जो की कई सारे Computers को आपस में Connect कर सके.

1960 के दशक में MIT के वैज्ञानिक Lucklider ने कम्प्यूटर नेटवर्क के महाजाल (Intergalactic Network of Computer) का आईडिया दुनिया को बताया था. 

वैज्ञानिक Lucklider ARPA ग्रुप का हिस्सा थे, उनका मानना था की एक Nertwork के जरिये लोगों के Computer को जोड़ा जा सकता है और एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर में डाटा भी ट्रांसफर कर सकतें हैं.

Internet की खोज (Internet Ki Khoj Kaise Hui)

उसके कुछ सालो बाद computer Scientists ने Packet Switching मेथड का आविष्कार किया. Packet Switching का इस्तेमाल कंप्यूटर्स या रेडियो के बीच connection बनाने के लिए किया जाता है. 

जिन दो कम्प्यूटर्स के बीच डाटा transfer किया जाता था उन कम्प्यूटर्स के पास Radio Transmitter और Radio Reciever होता था.

Packet Switching का इस्तेमाल करके Electronic Data को Transfer करना संभव हो गया था, और यही Internet की नीव साबित हुआ.

इसमें कई सारे Networks को आपस में connect कर दिया गया था इसलिए इसे उस समय Inter Networking कहा जाता था, और आज के समय में इसे हम Internet कहते हैं.

सन 29 अक्टूबर 1969 में Packet Switching तकनीक का इस्तेमाल करके ARPAnet नामक सरकारी एजेंसी ने Node-to-Node दो computers के बीच में संपर्क स्थापित किया और दोनों कम्प्यूटर के बीच में Data भी Transfer किया गया. यही था सबसे पहला इंटरनेट हालांकि इसमें कुछ खामियां भी थी.

सन 1972 में Robert Kahn और Vinton Cerf ने TCP/IP (Transmission Control Protocol/ Internet Protocol) का निर्माण किया. TCP/IP एक Protocol है जो किसी network में दो या दो से अधिक कम्प्यूटर्स आपस में संपर्क कैसे स्थापित करेंगे यह निर्धारित करता है.

Internet Ka Avishkar Kisne Kiya
Vinton Cerf and Robert Kahn

सन 1983 में ARPAnet ने TCP/IP मॉडल को अपना लिया और Data Transfer करने के लिए कई computers का एक network बनाया जिससे Internet युग की शुरुआत हुई.

WWW का अविष्कार (WWW Ka Avishkar)

उसके बाद 6 अगस्त 1991 में ब्रिटिश वैज्ञानिक Tim Berners Lee ने www (World Wide Web) का अविष्कार किया, www एक तकनीक है जिसके जरिए हम Internet पर Websites और Hyperlinks को access कर सकतें हैं.

Internet Ka Avishkar Kisne Kiya
Tim Berners Lee

European Organisation For Nuclear Research के NeXT नामक कम्प्यूटर पर Tim Berner Lee द्वारा बनाया गया पहला Website Live किया गया था, जो की CERN में मौजूद है.

इंटरनेट पर मौजूद सभी Websites HTMLCSS, और Javascript Language से बनी है, Tim Berners Lee ने ऐसा ही एक website बनाया था. उन्होंने वेबसाइट को बनाने के लिए HTML Language का इस्तेमाल किया था.

अगर Tim Berners Lee उस समय website को नहीं बनाए होते तो आज हम Internet के जरिए Websites का इस्तेमाल Knowledge बाटने के लिए नहीं कर पाते. 

इंटरनेट की खोज किसने की? (Internet Ki Khoj Kisne Ki)

इतना कुछ जानने के बाद आपको यह तो समझ आ ही गया होगा की Internet का अविष्कार किसी एक इंसान ने नहीं किया था, बल्कि इसको बनाने के लिए कई वैज्ञानिक, इंजीनियर, और Programmer ने अपना योगदान दिया. 

हालाँकि इंटरनेट के अविष्कार में सबसे ज्यादा चरचित नाम है Vinton Cerf जिन्होंने TCP/IP का आविष्कार किया था, इसलिए इन्हे Father of Internet भी कहा जाता है. हालाँकि Vinton Cerf का कहना है की “इंटरनेट को बनाने के लिए कई लोगों ने अपना योगदान दिया था और वो सभी इंटरनेट के आविष्कारक हैं”.

Tim Berners Lee का भी योगदान काफी महत्वपूर्ण है क्योंकि अगर ये website नहीं बनाते तो आज हम इंटरनेट होने के बाद भी websites का इस्तेमाल नहीं कर पाते. 

कुल मिला के कहूं तो Internet के आविष्कार के पीछे कई लोगों का योगदान है लेकिन सबसे बड़ा योगदान Vinton Cerf, Robert Kahnऔर Tim Berners Lee का है.

इंटरनेट का मालिक कौन है? (Internet Ka Malik Kaun Hai)

दोस्तों इंटरनेट का मालिक कौन है (Internet Ka Malik Kaun Hai) यह जानने से पहले हमें यह समझना जरुरी है की यह काम कैसे करता है जो की आपने ऊपर देखा ही है. इंटरनेट का मालिक कोई एक व्यक्ति या organization नहीं है अब क्यूंकि इंटरनेट कई लाखों कम्प्यूटर्स और Server का नेटवर्क है इसलिए हम कह सकते हैं की इंटरनेट का मालिक कोई एक व्यक्ति नहीं है.

अब चूँकि इंटरनेट कई लाखों कम्प्यूटर्स और Server का नेटवर्क है जो की Fiber Optic Cable की सहायता से आपस में जुड़े रहते हैं, इसलिए इस नेटवर्क में जिन लोगों के कंप्यूटर, Fiber Optic Cable और सर्वर शामिल हैं वे सभी लोग इंटरनेट के मालिक हैं.

आज के युग में इंटरनेट ने हर एक व्यक्ति के जीवन को बदल दिया है आज हम जब चाहे घर बैठे फ़ूड आर्डर  कर सकते हैं, घर बैठे एक अकाउंट से दूसरे अकाउंट में पैसे ट्रांसफर  कर सकते हैं, घर बैठे ऑनलाइन पढा

Conclusion :-

हमें आशा है की यह आर्टिकल पढ़ने के बाद आपके कई सवालों के जवाब मिल गए होंगे जैसे की इंटरनेट की खोज किसने की? (Internet Ki Khoj Kisne Ki Thi) , यह कैसे काम करता है और इंटरनेट का मालिक कौन हैं (Internet Ka Malik Kaun hai). अगर आपके कुछ सुझाव हैं तो आप अपने सुझाव कमेंट में लिख कर हम तक पंहुचा सकतें हैं और अगर आपको यह लेखपसंद आया हो तो इस Article को आप Share जरूर करें.

Vikas Tiwari

विकास तिवारी इस ब्लॉग के मुख्य लेखक हैं. इन्होनें कम्प्यूटर साइंस से Engineering किया है और इन्हें Technology, Computer और Mobile के बारे में Knowledge शेयर करना काफी अच्छा लगता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *